Skip to content
कहानी

संयुक्त राष्ट्र ने पर्किन्स इंडिया के प्रोजेक्ट आईडीआई (पहचानऔर हस्तक्षेप परियोजना ) को वैश्विक लक्ष्यों की ओर अच्छे आचरण के रूप में मान्यता दी है।

संयुक्त राष्ट्र के आर्थिक एवं सामाजिक मामलों के विभाग (डीईएसए) ने पर्किन्स इंडिया के पहचान और हस्तक्षेप परियोजना (प्रोजेक्ट आईडीआई) को दीर्घकालिक विकास लक्ष्यों (एसडीजी) में अच्छे आचरण के रूप में मान्यता दी है।

रंगीन चक्र के साथ दीर्घकालिक विकास लक्ष्यों का प्रतीक चिन्ह

हम जिन वैश्विक चुनौतियों का  सामना कर रहे हैं उनका समाधान करने के लिए दीर्घकालिक विकास लक्ष्य (एसडीजी) सभी के लिए बेहतर और अधिक चिरस्थाई भविष्य को प्राप्त करने की रूपरेखा है। २०२१  में संयुक्त राष्ट्र संघ के आर्थिक एवं सामाजिक मामलों के विभाग (डीईएसए) ने एसडीजी के अच्छे आचरण  उदाहरणों को को प्रकाशित(उजागर) करने के लिए दूसरी बार आह्वान किया जिसमें वे भी शामिल हैं जिनका दुनिया भर में दूसरों द्वारा अनुकरण किया जा सके या बढ़ाया जा सके ।

पर्किन्स इंडिया की पहचान और हस्तक्षेप  परियोजना (आईडीआई) चयनित प्रस्तुतियों में से एक था और उसे अच्छे आचरण के रूप में मान्यता प्राप्त हुई ।

परियोजना आईडीआई १७  में से ८ लक्ष्यों में योगदान देता है, जिसमें शामिल हैं:

एसडीजी ३  प्रतीक चिन्ह। अच्छा स्वास्थ्य और तंदुरुस्ती (सेहत)। ह्रदय की धड़कन (हार्टबीट) का आइकॉन।

एसडीजी ३  (अच्छा स्वास्थ्य और तंदुरुस्ती) :

जांच और परामर्श से स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुँच में वृद्धि होती है। हस्तक्षेप  सेवाएँ शारीरिक और संज्ञानात्मक क्षमताओं को बढ़ाती हैं। परिवार का सहयोग बच्चों को स्वस्थ/उन्नत रखता है।

एसडीजी४  प्रतीक चिन्ह। गुणवत्तापूर्ण शिक्षा। किताब और पेंसिल का आइकॉन।

एसडीजी ४  (गुणवत्तापूर्ण शिक्षा):

बच्चों को विद्यालय  के लिए तैयार करना। सहयोग के साथ विद्यालय का समावेश । शिक्षक गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के लिए प्रशिक्षण प्राप्त करते हैं।

एसडीजी १०  प्रतीक चिन्ह। असमानताएँ कम करना। समानता का आइकॉन।

एसडीजी १०  (असमानताएँ कम करना):

समुदाय में समावेश के लिए दिव्यांगताओं से ग्रस्त लोगों की क्षमताओं के प्रति जागरूकता को बढ़ाना।

एसडीजी १७  का प्रतीक चिन्ह। लक्ष्यों के लिए साझेदारी। इंटरसेक्टिंग रिंग्स आइकॉन( एक दूसरे से मिलती हुई रिंग का आइकॉन)

एसडीजी१७  (लक्ष्यों के लिए साझेदारी):

दिव्यांगताओं से ग्रस्त लोगों के जीवन में बेहतर परिणामों के लिए स्वास्थ्य-शिक्षा साझेदारी।

परियोजना आईडीआई एसडीजीएस के लिए कैसे योगदान करता है इसके बारे में और अधिक जानकारी के लिए संयुक्त राष्ट्र डीईएसए में पूर्ण प्रस्तुतीकरण पढ़ें

SHARE THIS ARTICLE
एमडीवीआई से ग्रस्त बच्चे और उनके शिक्षक शरबतपुर सामुदायिक हस्तक्षेप केंद्र के सामने खड़े हुए हैं।
कहानी

सीतापुर में नया स्थापित हस्तक्षेप केंद्र- एक उम्मीद ले कर आया है

आशा कार्यकर्ताएं एक ऍमडीवीआई से ग्रस्त बच्चे के पास बैठीं हैं जिसने हाथ में खिलौनों को पकड़ रखा है।
कहानी

सीतापुर में एक नये प्रशिक्षण कार्यक्रम ने अनेक एमडीवीआई से ग्रस्त बच्चों के लिए शैक्षिक अवसर निर्माण हुए।

कहानी

जब पेशे में जुनून साथ होता हैं।