Skip to content
कहानी

होली के त्यौहार में एमडीवीआई से ग्रस्त बच्चों को शामिल करना

होली के त्यौहार में सार्थक रूप से एमडीवीआई से ग्रस्त बच्चों को संलग्न करने के लिए पांच मनोरंजक सुझाव |

एक लड़की आनंद से अपनी शिक्षिका के गालों पर रंग लगाती है।

होली भारत के सबसे जोशपूर्ण और रंगीन त्योहारों में से एक है। बहुदिव्यांगता और दृष्टिदिव्यांगता (एमडीवीआई) या बधिरांधता (डीबी) से ग्रस्त बच्चे होली के त्योहार का बेसब्री से इंतजार करते हैं क्योंकि वे अपने दोस्तों, शिक्षकों और परिवार के साथ रंगों और पानी का उपयोग करके खेलना पसंद करते हैं। यह एमडीवीआई से ग्रस्त बच्चों को होली के उत्सव में सार्थक रूप से संलग्न करने के कुछ मनोरंजक तरीके हैं:

१ . बच्चों को रंगो के बारे में सिखाएँ

होली का त्यौहार बच्चों को विभिन्न रंगों के बारे में सीखाने का सर्वोत्तम अवसर है। खेल के माध्यम से बहुत सारे विभिन्न रंगों के साथ खेलते हुए बच्चे रंगों के बारे में बेहतर रूप से सीखते और उन्हें बेहतर पहचानते भी है।   

२. प्राकृतिक रंग बनाएँ

सब्जियो और फूलों के उपयोग से प्राकृतिक रंग बनाना एमडीवीआई/बधिरांधता से ग्रस्त बच्चों के लिए एक 
 मज़ेदार बहुसंवेदी गतिविधि है।  

३. सामाजिक सहभागिता को प्रोत्साहित करें 

दूसरों के साथ जश्न मनाना उत्सवों का एक महत्वपूर्ण भाग है। यह बच्चों को परिवार के विभिन्न सदस्यों, दोस्तों और समुदाय के अन्य लोगों के साथ सहभागिता करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए एक प्राकृतिक अवसर प्रदान करता है। 

४. नई कला एवं शिल्प बनाएं

उत्सव से संबंधित नई कला और शिल्प की गतिविधि सिखाने का यह उत्तम समय है। आप बच्चों को ग्रीटिंग कार्ड और मनोरंजक होली के रंगो के उपयोग से रंगीन फूल  बनाने में सहयोग कर सकते हैं। 

५. मिठाईयों को तैयार करना और बांटना

होली के उत्सव के दौरान मिठाइयों का आनंद लिया जाता है। त्योहार की मिठाइयाँ तैयार करने में बच्चों को शामिल कर आप बच्चो को खाना बनाने के विभिन्न कौशल सीखने में प्रोत्साहित कर सकते है। उन दोस्तों और परिवार के साथ मिठाई बटवाना  सुनिश्चित करें जिन्हें बच्चा जानता है!

बधिरांधता से ग्रस्त एक बच्चा अपनी शिक्षिका के साथ रंगों से खेलते हुए मुस्कुरा रहा है।

होली खुशी और उल्लास लेकर आती है। चारों ओर हर कोई प्रसन्नता और मस्ती के मूड में होता है- एमडीवीआई से ग्रस्त बच्चों के सीखने के लिए सर्वोत्तम अवसर है, क्योंकि उन्हे बहुत प्रसन्नता होती है। 

इस वर्ष कोवीड-१९  महामारी के कारण, वायरस के प्रसार को रोकने के लिए त्योहार मनाते समय  एहतियाती उपाय करें, जैसे कि आपके घर के बाहर दूसरों से मिलते हुए, उचित सामाजिक दूरी और हाथ की स्वच्छता रखें।

चित्र सौजन्य से  हेलेन केलर इंस्टीट्यूट फॉर  डेफ एंड डेफब्लाईंड  

SHARE THIS ARTICLE
आशा कार्यकर्ताएं एक ऍमडीवीआई से ग्रस्त बच्चे के पास बैठीं हैं जिसने हाथ में खिलौनों को पकड़ रखा है।
कहानी

सीतापुर में एक नये प्रशिक्षण कार्यक्रम ने अनेक एमडीवीआई से ग्रस्त बच्चों के लिए शैक्षिक अवसर निर्माण हुए।

सीसीआई के बच्चे बाग़वानी गतिविधियों में मग्न।
कहानी

आशीर्वाद जो की मायने रखता है: कही पहाड़ियों और घाटियों में की गई एक प्रेरणादायक पहल

कहानी

एक परिवार का सपना सच हुआ, कि उनका बच्चा पाठशाला जाने लगा