Skip to content
लेख

घर के अंदर खेलें जाने वाली खेलों की गतिविधियां

एमडीवीआई से ग्रस्त बच्चों के लिए घर के अंदर खेलें जाने वाली खेलों की गतिविधियां

एमडीवीआई से ग्रस्त एक बच्चा अपने भाई के साथ गेंद से खेलते हुए

चलो खेल के माध्यम से आनंद लेते हैं

सभी बच्चों को खेलना बहुत पसंद हैं। दृष्टि दिव्यांगता और बहूदिव्यांगता (एमडीवीआई) से ग्रस्त बच्चों में भी खेलने की आवश्यकता किसी भी अन्य बच्चे की तरह तीव्र होती हैं। हालांकि, एमडीवीआई से ग्रस्त बच्चों के कई परिवार अक्सर महसूस करते हैं कि उनके बच्चों को अन्य बच्चों के साथ या अकेले खेलने की खेलों की गतिविधियों में शामिल करना एक चुनौती होती हैं।

एमडीवीआई से ग्रस्त बच्चों को खेलों की गतिविधियों में भाग लेने के लिए काफी प्रोत्साहन और सहायता की आवश्यकता होती हैं। एमडीवीआई से ग्रस्त बच्चे को खेल की गतिविधि में संलग्न करना, बच्चे को अन्य बच्चों और व्यक्तियों के साथ सामूहीकरण करने और उन्हें अपनी भावनाओं को व्यक्त करने के लिए प्रोत्साहित करने का बहुत बढ़िया तरीका हैं। वे विभिन्न अवधारणाओं को भी सीख सकते हैं, जैसे कि, खेलते समय बारी-बारी से खेलना (टर्न टेकिंग), विभिन्न बनावटों, आकारों को समझना और विविध कौशलों को सीखना जैसे की, वस्तुओं का पता लगाना और हाथों का कुशलतापूर्वक उपयोग करना और सबसे महत्वपूर्ण आनंद लेना!

एमडीवीआई से ग्रस्त बच्चों के साथ खेलों की गतिविधियों को लेकर कल्पनाशील और रचनात्मक होना विशेष रूप से महत्वपूर्ण है। यह कुछ सरल गतिविधियां हैं, जो एमडीवीआई से ग्रस्त बच्चों के साथ घर पर कर सकते हैं और जिनके द्वारा वह सीख सकते हैं और उनका आनंद भी ले सकते हैं।

छिपी हुई वस्तुओं/खिलौनों को खोजना:

किसी भी प्रकार का आटा (मकई का आटा, गेहूं का आटा, चावल का आटा) विभिन्न कटोरे / बाल्टी / टब में इस्तेमाल किया जा सकता हैं। आप आटे में विभिन्न वस्तुओं (बच्चा जिनके साथ खेलता हैं वह छोटे खिलौने) को छिपा सकते हैं और आटे में छिपी वस्तुओं को खोजने के लिए बच्चे को अपने हाथों और पैरों का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं। यदि खिलौने उपलब्ध नहीं हैं, तो घर पर आसानी से उपलब्ध अन्य वस्तुएं जैसे कि, छोटी कटोरियाँ, छोटी प्लेटें और चम्मच का उपयोग बच्चे को अधिक से अधिक पता लगाने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए किया जा सकता हैं।

एक कटोरे में गेहूं के आटे में छिपाई हुई वस्तुएं

हिलाने के लिए बड़े चम्मच, कढ़छी से निकालने के लिए (स्कूप करने के लिए) कटोरियाँ, आटे के साथ खेलने के लिए फ़नल /छलनी का उपयोग करना, बच्चे को अपने दोनों हाथों का उपयोग करके अलग-अलग कौशल सीखने के लिए प्रोत्साहित करने के बेहतरीन तरीके हैं और उसके साथ ही विभिन्न बनावट, ध्वनियों और संवेदनाओं का अनुभव करने का एक बेहतरीन तरीका हैं।

विभिन्न अनाज जैसे चावल, गेहूं या विभिन्न दालों (राजमा, चना, मूंग, चना दाल) का भी उपयोग किया जा सकता हैं। बच्चे की पसंद के अनुसार आप आटा/अनाज/दाल का चयन कर सकते हैं और समय-समय पर गतिविधि में विविधता लाने के लिए और बच्चे की गतिविधि में रुचि बनाए रखने के लिए अनाज/दाल/आटा बदलते रहें।

जब माता-पिता और देखभाल करने वाले बच्चे के साथ खेलते हैं, खेल के दौरान बच्चा अपनी ज़रूरतें व्यक्त करना सीखता हैं जैसे, मदद मांगना, अगर उसे और खेलना हैं तो इसे व्यक्त करना, या यह बता पाना की अब उसे यह खेल की गतिविधि नहीं करनी या ख़तम करनी हैं।

हमेशा एक मुलायम कपड़ा और पानी सफाई के लिए साथ रखना याद रखें। गतिविधि के दौरान, ज़रूरत पड़ने पर बच्चा अपने हाथों को पोंछने के लिए इस मुलायम कपडे का उपयोग कर सकता हैं।

एक कटोरे में दाल में छिपाई हुई वस्तुएं

कभी-कभी, कुछ बच्चे अपने हाथों और उंगलियों से आटा/अनाज को छूना पसंद नहीं करते। प्रारंभ में, बच्चा गतिविधि में भाग लेने के लिए एक चम्मच का उपयोग भी कर सकता हैं। बच्चे को हैंड अंडर हैंड (माता-पिता के हाथ के ऊपर बच्चे का हाथ) सहायता प्रदान करना भी सहायक हो सकता हैं जिससे आप अनाज/आटे को एक साथ छू सकते हैं और धीरे-धीरे बच्चे को अपने हाथ से छूने और वस्तुओं को ढूंढ़ने के लिए मार्गदर्शन कर सकते हैं। खेल की गतिविधि के दौरान आप बारी-बारी (टर्न टेकिंग) से खेल सकते हैं और गतिविधि के दौरान हाथों से बनावट महसूस करने के लिए दाल में हाथ से खुदाई करना, कढ़छी से निकालते समय (स्कूप करना) और बर्तन में दाल उड़ेलते समय ध्वनि को सुनना – यह सारी चीज़ें बारी-बारी कर सकते हैं।

वस्तुओं का चयन करते समय, कृपया याद रखें की शुरुआत उन वस्तुओं से करे जिनसे बच्चा परिचित हो और वह खिलौने ले जिनके साथ खेलना बच्चा पसंद करता है।

पानी का खेल (वॉटर प्ले):

एमडीवीआई से ग्रस्त कई बच्चे पानी को बेहद पसंद करते हैं। पानी का खेल (वॉटर प्ले) एक बहुत बढ़िया गतिविधि हैं जो बच्चों को विभिन्न कौशल सीखने के लिए प्रोत्साहित करती हैं, जैसे – उड़ेलना, निचोड़ना, हिलाना और रगड़ना। कई बच्चे पानी में बस अपने हाथों को घुमाना पसंद करते हैं क्योंकि यह उनके लिए बहुत आरामदेह होता हैं और कुछ बच्चे पानी में छपछपाना और उड़ेलने की क्रियाओं को बेहद पसंद करते हैं। पानी के खेल (वॉटर प्ले) के लिए एक छोटा टब/बाल्टी/बड़ा बर्तन/छोटे डिब्बे का उपयोग किया जा सकता हैं।

एक बड़े कटोरे में पानी में कुछ वस्तुएं और खिलौने

धीरे-धीरे पानी में अलग-अलग चीजें मिलाई जा सकती हैं जैसे शैम्पू/गुलाब जल जो एमडीवीआई से ग्रस्त बच्चों को उनके संवेदी अनुभवों को व्यापक बनाने में मददगार हो सकती हैं, क्योंकि वे अलग-अलग बनावट और अलग-अलग तापमान (गर्म या ठंडे पानी) में अपने हाथ डालते हैं। पानी के खेल के लिए विभिन्न पानी के खिलौने, स्पंज, छोटी छलनी(स्ट्रेनर), छलनी, छोटे कप, स्टील के गिलास, कटोरे, छोटी बोतलें इस्तेमाल की जा सकती हैं। माता-पिता और देखभाल करने वाले बच्चे के साथ मिलकर कुछ सरल कार्य कर सकते हैं जैसे कि बच्चे को अपने हाथों पर पानी डालने के लिए प्रोत्साहित करना और कभी बच्चे के हाथों पर पानी डालना।

यह एक बहुत बढ़िया गतिविधि हैं जिसमें बच्चे के भाई बहन भी शामिल हो सकते हैं और जब वे एमडीवीआई से ग्रस्त बच्चे के साथ खेलते हैं, बच्चा स्वाभाविक रूप से अपने भाई-बहनों के साथ बारी-बारी से खेलना सीखेगा जब वह साथ-साथ पानी में हाथों को छपछपायेंगे और वस्तुओं का पता लगाएंगे।

एमडीवीआई से ग्रस्त कुछ बच्चे अक्सर मुंह में हाथ डालते हैं। कभी-कभी, बच्चा इस तरीके से अपने विभिन्न इन्द्रियों का उपयोग करके स्पर्श की हुई वस्तु का अनुभव लेना चाहता हैं। इस परिस्थिति में, खाद्य रंग का भी इस्तेमाल किया जा सकता हैं; यदि यह आसानी से घर पर उपलब्ध हो। (कभी-कभी पानी में इलायची / दालचीनी पाउडर मिला सकते हैं, जिससे बच्चा एक अलग गंध और अलग बनावट का अनुभव कर सकता हैं; और यह बच्चे के लिए हानिरहित हैं)।

गुलाब जल का उपयोग करके पानी का खेल (वॉटर प्ले)

कुछ अतिरिक्त घर के अंदर खेलें जाने वाली खेलों की गतिविधियां:

कई अन्य गतिविधियां हैं जिनके द्वारा एमडीवीआई से ग्रस्त बच्चे खेलना और सीखना दोनों कर सकते हैं।.

अगर बच्चा ज्यादातर घर पर लेटी हुई स्थिति में हैं, ऐसी परिस्थिति में, कुछ दिलचस्प वस्तुओं/खिलौनों को उसके हाथों/पैरों के पास लटकाये और बच्चे को दिखाए कि अपने हाथों का उपयोग करके किस तरह से उन खिलौनों या वस्तुओं को स्पर्श कर सकते हैं, हिला सकते हैं; बच्चे के साथ खेलते हुए बच्चे को संलग्न करने का यह एक बेहतरीन तरीका हैं।

कुछ सरल खेल जो बच्चा अपने भाई-बहनों के साथ मिलकर खेल सकता हैं जैसे ‘गेंद/वस्तु को दूसरे व्यक्ति के हाथ में देना’ (पास करना), बच्चे के लिए दिलचस्प हो सकते हैं।

यदि खिलौने उपलब्ध नहीं हैं, तो कई बच्चे घर में उपलब्ध छोटी स्टील की कटोरियाँ / गिलास के साथ भी खेलना पसंद करते हैं। बच्चे को अपने भाई-बहनों के साथ खेलने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए अलग-अलग वस्तुओं के साथ विभिन्न तरीके से स्टैकिंग करना (कटोरियों/गिलास को एक के ऊपर एक लगाना) जैसी सरल गतिविधियां एक बेहतरीन तरीका हैं।

एमडीवीआई से ग्रस्त एक बच्चा अपने भाई के साथ गेंद से खेलते हुए
स्टैकिंग (कटोरियों को एक के ऊपर एक लगाना) के लिए छोटे स्टील की कटोरियों का उपयोग करना

कृपया याद रखें:

  • यदि गीले बनावट को छूना बच्चे को पसंद नहीं हैं, तो शुरुआत में सूखे बनावट का प्रयोग करना बेहतर और सहायक होगा।
  • जिन वस्तुओं में धार हो, टूटने की संभावना हो, या जंग खाई हुई कोई वस्तु हो, ऐसी वस्तुओं का प्रयोग न करे।
  • हम सभी की पसंद भिन्न होती हैं और यही बात एमडीवीआई से ग्रस्त बच्चों के लिए भी लागु होती हैं। कुछ लोग मखमल का स्पर्श पसंद करते हैं, और कुछ लोग इससे घृणा करते हैं। कृपया बच्चे की पसंद-नापसंद का सम्मान करें।
  • बच्चे को आवश्यक सहायता प्रदान करना ज़रूरी हैं, जो हैंड ओवर हैंड (माता-पिता का हाथ बच्चे के हाथ के ऊपर), हैंड अंडर हैंड (बच्चे का हाथ माता-पिता के हाथ के ऊपर) और कभी-कभी कलाई पर सहायता के रूप में दे सकते हैं।
  • कुछ बच्चे एक कागज़ का टुकड़ा या एक चमकदार वस्तु जैसी चीज़ों के साथ खेलना पसंद कर सकते हैं। जब बच्चा अकेला बैठा हो तब वह इन वस्तुओं के साथ खेल सकता हैं और कभी आप भी उसके साथ खेल सकते हैं।
  • एमडीवीआई से ग्रस्त बच्चों को उसी प्रकार की अथवा समान गतिविधियों में बार-बार शामिल करना और अनुभव देना महत्वपूर्ण है। लगातार अनुभव बच्चों को सीखने में मदद करते हैं।
  • आप बच्चे के लिए खेल के अनुभव को जितना मज़ेदार और सुखद बनाएंगे, उतना ही बच्चा इन गतिविधियों को दुबारा करना चाहेगा।
  • सभी खेलों की गतिविधियों में भाई-बहनों को शामिल करना बच्चों को दूसरे बच्चों के साथ खेलना भी सीखाता हैं।
  • हर बच्चा अलग हैं और कुछ बच्चों को वस्तुओं को छूने, पता लगाने और विभिन्न क्रियाएं करने के लिए अतिरिक्त समय की आवश्यकता हो सकती हैं।
  • गतिविधि के बाद जब आप बच्चे को सफाई में शामिल करते हैं तो यह उसके लिए एक सीखने का अवसर भी हैं और उसे गतिविधि के समाप्त होने की जानकारी भी देता हैं।
  • सबसे महत्वपूर्ण बात यह हैं की बच्चा जो कर रहा हैं वो उसे पसंद हो। अंतिम लक्ष्य यह हैं की बच्चा इस गतिविधि से आनंद ले

इस संसाधन का पीडीएफ संस्करण देखने के लिए इस लिंक का अनुसरण करें।

SHARE THIS ARTICLE
चश्मा पहने एक लड़का रंगीन, बनावट वाली गेंद को पकडे हुए हैं।
लेख

२०२१ में पर्किन्स इंडिया का बच्चों पर प्रभाव

लावीअपनी शिक्षिका आरती के साथ रंग भरने की गतिविधि में संलग्न है।
लेख

समावेशीकरण की प्राप्ति और उसका तात्पर्य

बच्चे कक्षा में रंगीन खिलौनों से सीखते हैं।
लेख

हम बहुत खुश हैं क्योंकि हम भी सीख सकते है