कहानी

आशा कार्यकर्ताओं की मदद से बच्चों तक पहुँचना

एक स्थानीय आशा कार्यकर्ता का सामुदायिक समर्थन कई दिव्यांगता से ग्रस्त बच्चों और दृष्टिदिव्यांगता से ग्रस्त बच्चों की पहचान करने में मदद करता है।

सुश्री मिथलेश देवी जांच (स्क्रीनिंग) प्रक्रिया का अवलोकन करते हुए।

” दिव्यांगता से ग्रस्त बच्चों के संबंध में समुदाय के लोग बहुत जागरूक हुए हैं। दिव्यांगता से ग्रस्त बच्चों के प्रति दृष्टिकोण में परिवर्तन हुआ है ,और दिव्यांगता से ग्रस्त बच्चों की पहचान की जा रही है। यहां तक ​​कि समुदाय के लोग आईडीआई टीम का समर्थन करने के लिए इच्छुक हैं, ”सुश्री मिथलेश देवी कहती है जब वह पर्किन्स इंडिया और साझेदार संस्था जयति भारतम की परियोजना पहचान और हस्तक्षेप (आईडीआई) के लागु होने की वजह से इस क्षेत्र में और अपने समुदाय में आए बदलावों के बारे में सोचती हैं।

सुश्री देवी के प्रयासों ने समुदाय में दृष्टी दिव्यांगता और बहु दिव्यांगता से ग्रस्त (एमडीवीआई) कई बच्चों की पहचान करने में प्रोजेक्ट आईडीआई की सफलता का समर्थन किया है, ताकि इन बच्चों कोउन सेवाओं से जोड़ा जा सके जिनकी उन्हें आवश्यकता है। सुश्री देवी लखनऊ के गोसाईगंज ब्लॉक में १४ साल से एक मान्यता प्राप्त सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता (आशा) हैं, जो मुख्य रूप से मातृ और बाल स्वास्थ्य पर नज़र रखने और समुदाय में स्वास्थ्य-लाभकारी व्यवहार को प्रोत्साहित करने के लिए समर्पित हैं।

आईडीआई टीम ने सुश्री देवी से मुलाकात की जब वे पहली बार गोसाईगंज में ग्राम प्रधान से मिले। परियोजना के बारे में जानने के तुरंत बाद, उन्होंने आईडीआई टीम को बच्चों के कुछ परिवारों से मिलवाया, जिनके बारे में उन्हें लगा कि उनमें दृष्टि दिव्यांगता और अन्य दिव्यांगताएं हो सकती हैं। जब आईडीआई टीम ने बच्चों की जांच की, तो सुश्री देवी ने सहायता प्रदान की और जांच (स्क्रीनिंग) की प्रक्रिया का अवलोकन किया। स्क्रीनिंग प्रक्रिया के इस नए प्रदर्शन के साथ, सुश्री देवी ने सीखा कि आईडीआई टीम किस उद्देश्य से काम कर रही है और उन्होंने गाँव में दिव्यांगता से ग्रस्त बच्चों के घरों में भी टीम का मार्गदर्शन किया।

तब से वह अपने समुदाय में प्रोजेक्ट आईडीआई के लिए एक मूल्यवान संसाधन रही हैं और यहां तक ​​कि दिव्यांगता से ग्रस्त बच्चों की पहचान और जांच (स्क्रीनिंग) में आईडीआई टीम के सदस्यों का समर्थन करने के लिए अपने साथी आशा सहयोगियों को भी शामिल किया है।

समन्वयक और CBR कार्यकर्ता स्क्रीनिंग प्रक्रिया के बारे में मिथलेश देवी (आशा कार्यकर्ता) को समझाते हुए।

सुश्री देवी यह समझती हैं की प्रोजेक्ट आईडीआई परिवारों के लिए बहुत महत्वपूर्ण हो सकता हैं। उन्होंने व्यक्त किया, “आईडीआई टीम न केवल गांवों में दिव्यांगता से ग्रस्त बच्चों की जांच (स्क्रीनिंग) कर रही है, बल्कि उन बच्चों के लिए आधार कार्ड [विशिष्ट पहचान पत्र] बनाने के लिए मार्गदर्शन प्रदान करने में भी परिवारों की मदद कर रही है। जिन परिवारों के पास कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेज़ नहीं है उन परिवारों को यह दस्तावेज प्राप्त करने के लिए भी मार्गदर्शन कर रहे हैं ताकि वह दिव्यांगता प्रमाणपत्र प्राप्त करें और सरकारी योजनाओं का लाभ उठा पाएं । ” वह और उनके सहकर्मी गाँव में जागरूकता फैलाने, माता-पिता के साथ काम करने और कोई अतिरिक्त सहायता प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध हैं ताकि पहचाने गए बच्चे किसी भी स्वास्थ्य-संबंधी सेवाओं तक पहुँच बना सकें, जिनकी उन्हें ज़रूरत है।

प्रोजेक्ट आईडीआई के लिए स्क्रीनिंग उन गांवों से आगे बढ़ी हैं जहां सुश्री देवी काम करती हैं, लेकिन समर्पण जारी है। वह अब उन गांवों में दिव्यांगता से ग्रस्त बच्चों के परिवारों के लिए एक संसाधन बनने के लिए तैयार है जहां वह सेवा करती हैं और जानती हैं कि उन्हें प्रोजेक्ट आईडीआई से कैसे जोड़ा जाए, ताकि उन परिवारों को उनकी मदद मिल सके

SHARE THIS ARTICLE
शेफाली पर्किन्स स्कूल फॉर द ब्लाइंडकैंपस में एक छात्रा को पढ़ाती हैं।
कहानी

एक कविता : एक लड़का जो अलग तरह से सोचता है

मोटे कांच का चश्मा पहने हुए एक लड़का रंगीन गेंद को पकडे हुए ।
कहानी

रेहान के लिए एक नई शुरुआत

एक कृत्रिम भालू को स्पर्श द्वारा पहचान करने की कोशिश करते हुए सुनैना
कहानी

चिड़ियाघर में एक दिन